Shree Sambhavnath Jain Temple

Shree Sambhavnath Jain Temple (Vyaasar Paadi – Chennai)

 

 

श्री संभवनाथ जैन मंदिर , व्यासरपाड़ी

 

चेन्नई के प्रसिद्ध उपनगर-व्यासरपाड़ी में श्री संभवनाथ भगवान का जिनालय स्तिथ है| मंदिरजी के मूलगंभारे में तीर्थंकर परमात्मा श्री संभवनाथ भगवान की ११ इंच कायायुक्त श्वेतवर्णीय प्रतिमा पद्मासनारूढ़ है| विशाल जिनप्रसादमें छोटी सी प्रतिमा अतिसुंदर प्रतीत होती है| असंभव को संभव करनेवाले ये प्रभु सुख के सागर है| करुणा मेघ बरसाती यह प्रतिमा अनंत पूण्य का खजाना है|

जगदीश्वर के मुखमंडल से वात्सल्य का झरना सतत प्रवाहित होता है, ऐसा प्रतीत होता है| परिकर युक्त ये स्वामी पूजक को परमार्थ से माला-माल कर देते है| परमात्मा का यह जिन बिंब ह्रदय में अनंत प्रीति का सृजन करता है|

मुलनायक परमात्मा के बायीं ओर श्री महावीर स्वामी तथा श्री शांतिनाथ भगवान की श्वेत पाषण से निर्मित मनोहर प्रतिमा पद्मासनस्थ विराजमान है| ११ इंच कायायुक्त इन परमेश्वर की पूजना आनंद उत्पन्न करती है| यह देवप्रसाद शिल्पशास्त्रानुरूप निर्मित है| मूलगंभारे के बाहर श्री त्रिमुख यक्ष, श्री दुरितारी यक्षिणी आदि शासन देव-देवियाँ गोखलों में प्रतिष्ठित है|

इस एक मंजिला जिनालय की प्रतिष्ठा वि.सं. २०५२, माघ शुक्ल ७, दिनांक २६.१.१९९६, शुक्रवार के शुभ दिन प.पू. आचार्यदेव श्रीमद विजय कलापूर्णसूरीश्वरजी म.सा. के कर-कमलों द्वारा हर्षोल्लास से संपन्न हुई|

संघ में २००० वर्ग फीट का भूतल पर विशाल उपाश्रय भी है| सर्व सुविधायुक्त इस उपाश्रय में धर्म-ध्यान की प्रवृतियां सदेव गतिशील रहती है| मंदिरजी के नीचे निर्मित इस उपाश्रय का माहोल शांत-प्रशांत है| साधु-साध्वीवृंदों के पधारने पर प्रवचन श्रवण आदि ज्ञानवर्धक कार्यक्रमों से स्थानीय जनता लाभान्वित होती रहती है|

यहाँ का ट्रस्ट उत्तरोतर प्रगति की ओर बढ़ रहा है| धार्मिक-सामाजिक, ज्ञानवर्धक, परोपकार युक्त अनुकम्पा, जीवदया आदि सतकार्य होते रहते है| शासन प्रभावना के कार्यों में यहाँ का संघ संलग्न है|