Ratnasensurishwarji

Aa. Shree Ratnasensurishwarji Marasahebji

 

गोडवाड के गौरव , बालिरत्न

आ. श्री रत्नसेनसुरीश्वर्जी म. सा.

baali marasaheb

जन्म : वीर. नि. सं. २४८४, शाके १८७९, वि.सं. २०१४, भाद्र्वा सु. ३, दी. १६.९.११५८

जन्म स्थान : महाराष्ट्र, जी.जलगांव का एक छोटा सा गाव – घोसला (पाचोरा)

माता : चम्पाबाई , पिता : श्री छगनराजजी गेनमलजी चोपड़ा , जन्म नाम : राजमल

शिक्षा : प्राथमिक – बाली ,  F.y. B.com उम्मेदमॉल कॉलेज , फलना

दीक्षा संकल्प : १८ जून १९७४

लघु दीक्षा : वीर. नि .सं. २५०३ , शाके १८९८, वि.सं. २०३३ , माघ शु. १३ , दी. २ फ़रवरी १९७७ बाली में

प्रदाता गुरु : वर्धमान तपोनिधि पु. श्री हर्षविजयजी गनिवर्य , गुरु : पु. पंण. प्रवर श्री भद्रंकरविजयजी

बड़ी दीक्षा : वीर नि.सं. २५०३ , शाके १८९८, वि.सं. २०३३ , माघ शु. १३, दी. १ मार्च १९७७ स्थान : घानेराव (राज.) ,

प्रदाता: पु. आ. श्रीजयकुंजीसूरीजी म.सा.

गणी पद : वि.सं. २०५५ , वे. वदी ६, दी. ७.५.१९९९९ , प्रदाता : आ. श्री मुक्तिप्रभाश्रीजी , पुणे में

पंनयास पद : वीर नि.सं. २५३७ , शाके १९३२ , वि.सं. २०६१ ,का. व्. ५ दी. २.१२.२००४, स्थान : श्री पारसनगर मुंबई,

प्रदाता : पु. गच्छाधिपति आ. श्री हेमभूषणसूरीजी वरद हस्ते

आचार्य पद : वीर नि.सं. २५३७ , शाके १९३२ , वि.सं. २०६७ , माघ वदी १ गुरूवार, दी. २0.११.२०११ को ठाना, मुंबई में

आचार्य पद प्रदाता :  पु. आ. श्री कनकशेखरसूरीजी म. सा. नामकरण : आ. श्री रत्नसेनसूरीजी

विशेष रूचि : साहित्य सर्जन – अब तक १६६ पुस्तकों का लेखन व् संपादन के साथ-साथ अनेक पुस्तकों का नुवाद भी किया |