Aa. Shree Nyaysuriji Marasahebji

Aa. Shree Nyaysuriji Marasahebji

 

 

आ. श्री न्यायसूरीजी म.सा.

 

nyaysuriji m.

 

 

जन्म स्थान : सादड़ी , जिल- पाली (राजस्थान)

जन्म नाम : श्री रतनचंद

पिता : श्री देविचंदजी बम्बोली

दीक्षा : वीर नि.सं. २४७६, शाके १८७१ , वि.सं. २००६ , मार्गशीर्ष शुक्ल १०, बुधवार , दिनांक ३०.१२.१९४९ , समय : १२.३९, विजयमुहर्त-बीजापुर तालाब किनारे, वटवृक्ष तले

प्रदाता : पंजाब केशरी, गोडवाड उद्धारक पू. आ. श्री वल्लभसूरीजी महाराजा

स्थान : बीजापुर (मारवाड़) के श्री संभवनाथ- श्री चंद्रप्रभुस्वामी जिनमन्दिर के प्रतिष्ठोत्सव पर, इस दिन इसी मुहर्त में कुल ३ दीक्षाए संपन्न हुई | १. सादड़ी निवासी श्री रतनचंदजी बम्बोली (मु. श्री न्यायविजयजी ) २. लाटारा निवासी श्री श्रीचंदजी (मु. श्री प्रीतीविजयजी) ३. बड़ा निवासी श्री शिवलालजी (मु.श्री हेमविजयजी )

गुरु : आ. श्री वल्लभसूरीजी पट्टधर आ. श्री समुद्रसूरीश्वरजी म.सा.

दीक्षा के विधि-विधान : पू. आ. श्री ललितसूरीजी के हस्ते

इस अवसर पर १९ साधू व् ५० साध्वीजी भगवंत व् हजारो की जनमेदिनी की उपस्थिति थी |

वि.सं. २०३८ का चातुर्मास , आ. श्री न्यायसूरीजी का शिवगंज ओसवाल उपाश्रय में

स्वर्गवास : वीर नि.सं. २५०९ , शाके १९०४ , वि.सं. २०३९  , चैत्र सुदी १३ , “महावीर जन्म कल्याण दिन” अप्रैल १९८३, प्रात: नवकारशी के समय |

स्थान : सादड़ी, जि.पाली (राजस्थान)